संघर्ष ही जीवन रस हैं

संघर्ष ही जीवन का रस हैं- गोपाल सिंह गुर्जर

0 comments: