Banks ensure smooth withdrawals under the Gareeb Kalyan scheme on Day 1

Pradhamantri gareeb jan yojana
www.pmkishan.com

MUMBAI : The first day of the disbursal of cash aid through the PM Garib KalyanYojana went off smoothly as banks followed strict social distancing norms. On Thursday, an amount of ₹500 was credited to women accountholders of Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana

Mint spoke to four bankers from four regions of the country – North India, South India, Eastern India and Western India.

Bankers said that two things worked in their favour and helped lessen the load at branches at a time when the direct benefit transfers (DBT) have started flowing in.

First, most of the Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana (PMJDY) accounts getting ₹500 from Friday are serviced by business correspondent (BC) outlets in villages. Second, the decision to divide accounts into five sets based on the account numbers and mapped against five dates between 3-9 April has helped thin the crowd.

According to a banker from erstwhile United Bank of India, now part of Punjab National Bank, on day one, there were no reports of overcrowding from branches in West Bengal as more than half of the accounts are serviced by BCs.

“For instance, in West Midnapore district, around 78,000 accounts were eligible to withdraw money on Friday. Of this, 72,000 accounts that received money use business correspondent outlets instead of branches," said the banker from PNB cited above. The district, he said, has close to 600 BC points that service 120 customers on average.

A banker from Canara Bank working Bangalore Rural district also said that business corrrespondents are taking care of a large chunk of these withdrawals. The district has about 212 branches, 3.18 lakh PMJDY account holders and close to half of these belong to women who would get ₹500 per month under the government’s relief package.

“BCs are visiting households and delivering services at the doorstep. Moreover, there are other customer service points which customers can use to withdraw money without visiting branches," said the banker from Canara Bank.

Bankers also say that the awareness campaigns through different social media, radio and television have also helped disseminate information faster and wider.

A banker from Central bank of India said that queues were not that long, thanks to the staggered disbursal of loans. “In some pockets of Delhi and Hyderabad, we witnessed a larger crowd as there are more accounts in these branches. Also customers coming to withdraw pension and salary also added to the rush. With the help of police, we ensured that social distancing is maintained," he said.

Some other banks like Bank of Baroda had already taken precautions even before the disbursals started. This included incentivising BCs by giving extra cash to buy sanitiser, masks etc and also to ensure that outlets are kept clear. For BoB, nearly 50 lakh accounts of the two merged banks and Regional Rural banks, saw disbursements on day 1.

“Lot of awareness campaigns have been done which helped us in crowd management. Besides, the district administration and police have also helped. In some places like Rajasthan and Guwahati, the police came on their own to ensure customers keep the queue and use mask," said MV Murali Krishna, Head - Financial Inclusion and CSR, Bank of Baroda.

It might be too early to treat direct benefit transfers as a one-size-fits-all policy solution given the difficulties some Indians have in accessing cash.

The government of India last month promised a relief package of about $22.6 billion to weaken the blow from COVID-19. Direct Benefit Transfers (DBT) will be the mainstay mechanism of Pradhan Mantri Gareeb Kalyan Yojana’s disbursal announced as part of the package. As per a tweet by the Ministry of Finance on April 19, over $1.3 billion has already been deposited in the bank accounts of about 200 million women beneficiaries. Yet, with the coronavirus pandemic placing severe restrictions on people’s movement, and overstretching administrative capacities, the DBT machinery is likely to be tested. We explore the challenge of intended beneficiaries being able to safely access funds. 

A look at the DBT mechanism reveals its usefulness. Launched in 2013, DBT is new relative to other longstanding welfare programs and appears innovative in its use of e-governance measures. DBT transfers are usually in cash, in-kind, or in other forms such as honorariums and incentives (we will focus on cash-based transfers). As per the government’s website, in FY 2019-20, 427 schemes under 56 ministries made use of DBT (full list here). In total, $34 billion in funds were transferred via more than 4 billion transactions. During the country-wide lockdown, over $4.8 billion has been transferred (from March 24-April 17, 2020).  

DBT has been supported by both physical and technological mechanisms called “enablers.” The bulk of processes for cash transfers to the accounts of the eligible are digitized through the use of the Public Financial Management System (the standard operating procedure can be found here). However, while the transfer of money to the beneficiaries’ account is digital, the ultimate aim to ensure cash-in-hand is not. This is heavily dependent on at least two physical enablers: banks/ATMs/postal offices and bank correspondents. 

With the coronavirus pandemic, both have to observe strict hygiene measures and guidelines, which is proving to be difficult. For example, the first installment (of $6.60 for a total of about $20 split across three months) was transferred to about 200 million women Jan Dhan account holders in early April. A pernicious effect of the coronavirus crisis has been fear, and rumors about money meant for beneficiaries being returned or blocked led to anxious beneficiaries flouting physical distancing norms to withdraw funds. This was after the Department of Finance had reinforced the need to adhere to strict guidelines of maintaining distance, and measures such as staggering customer arrival.

Thus, DBT’s operational difficulties at the last mile have the potential to reverse gains made on health protection through its use. 

An alternative could have been DBT’s bank correspondents (also called Bank Mitras or business correspondents), particularly for beneficiaries who may not not be as mobile to travel or could be at higher risk of contracting COVID-19. Among them are senior citizens and people with disabilities, for whom the Union government’s relief package mentions a one-time payment of $13. As restriction on movement during the lockdown reduces the regular maintenance of cash supplies, especially in rural areas, the responsibility of turning monetary benefits to actual cash-in-hand has also fallen upon the estimated 120,000 Bank Mitras. These outsourced banking agents function as micro-mobile-ATMs allowing customers to withdraw money. However, they are facing several obstacles. 

Despite their services being classified as essential, reports suggest that they continue to face restrictions in movement and threat to personal security. Moreover, they rely on link bank branches but these branches are themselves rationing cash due to low availability. According to one estimate, only 30 percent of the Bank Mitras are functioning in rural areas, many of whom have little incentive to keep working. This is why the Business Correspondent Federation of India (BCFI) has suggested relief measures of up to $65 for three months for the bank correspondents to compensate them for working under difficult circumstances. To address the issue, public banks such as the Bank of Baroda have announced a transfer of about $26 to each active and functional Bank Mitra for the purchase of personal protective equipment such as sanitizers, masks, and gloves. They have also added a conditional $1.30 per day incentive to active Bank Mitras. 

But, for Bank Mitras to be the true connection at Indian doorsteps, the government will have to install a comprehensive plan for them.

In an extraordinary time such as what the country faces right now,  re-engineering the DBT system to match the crisis is urgent. Until then, it might yet be early to treat DBT as a one-size-fits-all policy solution.

20 cr women Jan Dhan Account holders to get Rs 500 per month for next 3 months: Sitharaman

Sitharaman announced that 20 crore women of Jan Dhan Account holders will get Rs 500 per month for next three months to help them run their households.

Finance Minister Nirmala Sitharaman on Thursday announced Rs 1.70 lakh crore Pradhan Mantri Gareeb Kalyan Yojana to help all those needy people whose livelihood has been hit hard due to the coronavirus lockdown in the country, especially the poor people. As part of the relief package, Sitharaman announced that 20 crore women of Jan Dhan Account holders will get Rs 500 per month for next three months to help them run their households. The finance minister made a number of announcements including free food for those who depend on daily earnings including labourers, construction workers, others.

Among other announcements, the government will provide relief to farmers affected due to the lockdown. The Centre on Thursday said it will transfer in the first week of April the first installment of Rs 2,000 to each of 8.69 crore beneficiaries under the PM-KISAN scheme. Announcing the relief measures within 36 hours of nationwide lockdown, Finance Minister Nirmala Sithraman said, "Farmers receive Rs 6,000 annual from PM-KISAN. We will now be giving the first installment of that as a front-loaded matter, so that at the beginning of the year they will get Rs 2,000". This will benefit immediately 8.69 crore farmers who feed 1.3 billion populatio

हिंदी में जानकारी के लिए यह वीडियो जरुर देखे 


 

Coronavirus: What COVID-19 level 3 means for agriculture sector

Pmkishan
Natuhttps://www.worldometers.info/coronavirus/re

A move to a COVID-19 alert level 3 will mean all primary sector businesses are able to operate if they can do safely, says the Ministry for Primary Industries.
The Prime Minister has announced New Zealand will move from COVID-19 alert level 4 to alert level 3 at 11.59pm on Monday April 27th.
Primary industries and those who supply them were deemed an essential service under the level 4 restrictions, however have had to follow strict rules to stop the spread of the virus.
MPI has released details for agriculture businesses which are able to resume operations under level 3 and said it would provide further guidance soon.
Scroll down for the latest information and updates.
Businesses that can operate in alert level 3 include: 





  • primary sector businesses that provided essential goods and services during alert level 4
  • forestry including harvesting, wood processing, and forestry sales and exports
  • floriculture including bulb and seed growing, harvesting, processing, and sales and exports
  • wool and fibre industries including handling, shearing, scouring, and sales and exports
  • farm gate and cellar door sales - for delivery or contactless pick up only
  • Primary sector support services:
    Businesses providing support services to the primary sector can operate at alert level 3 if they can operate safely.
    Examples of these types of support services and activities include:





  • Farriers
  • Cattle yard installers
  • Suppliers of sphagnum moss for use in water treatment
  • Pest management operators (including vector control)
  • Fencers
  • Farm advisors
  • Research and science services
  • Biosecurity readiness, response, recovery and pest management activities
  • Wholesalers
  • Firewood suppliers
  • Timber manufacturers and suppliers
  • Farm property sales agents
  • Relocation to new farm properties
  • Construction of farm sheds, barns and herd homes
  • Routine plant, farm and gear maintenance
  • Manufacture, distribution and application of agricultural input products
  • Production and installation of frost protection fans
  • Livestock and wool sales and auctions - these must be held online where possible
  • Agricultural supply stores - for delivery or contactless pick up only
  • Pet stores - for delivery or contactless pick up only
  • Stock sales and auctions:
    Stock sales and wool auctions are permitted, but the public must not attend. They should be run online where possible.
    Retail:
    Retail businesses can operate, as long as they can offer contactless delivery or pre-arranged collection. 
    This includes: 





  • agricultural supply stores 
  • pet stores 
  • butcher shops, bakeries and greengrocers 
  • restaurants, cafes and takeaways  
  • cellar doors

  • MPI said business owners should also seek advice from their key sector groups (such as DairyNZ, Beef and Lamb NZ, Horticulture New Zealand), their co-op, and Federated Farmers. 
    Check back for updates.
    Pmkishan
    Corona fighter meeting

    NYC clinics set to start 'self-swab' coronavirus tests

    April 27, 2020, 3:23 PM
    2 min read
    2 min read
    Share to FacebookEmail this article
    New York City-run health clinics will soon take a new tack on coronavirus testing, using a procedure that lets people collect samples themselves at a health care worker's direction, Mayor Bill de Blasio announced Monday.
    He said the “self-swab” tests would allow for more and easier testing and make it safer for test-seekers and health care workers alike.
    “This is something we’re going to start using aggressively because it will be better for everyone,” the Democrat said.
    Up to this point, testing has mainly been done by health care workers inserting a swab deep into a person's nostrils. The feeling often makes someone sneeze or cough while the health care professional is right there, city Health and Hospitals President Dr. Mitchell Katz said.
    The new method is set to start within the next few days at eight community testing sites around the city. The process will work like this: A health care worker will explain how to administer the test, and then the person would take a nasal swab, with a health professional watching via a mirror to offer guidance, Katz said. The person getting tested then will spit into a cup for a second sample for cross-checking. The samples will then be given to a health care worker and tested.
    De Blasio said the method would allow health care workers and test-seekers to keep more distance; reduce the need to devote health care workers to administering tests, and allow the clinics to administer as many as 20 tests and hour, instead of 15.
    So far, more than 5,000 people have been tested at the city-run community sites since April 17.
    The new coronavirus causes mild or moderate symptoms for most people. For some, especially older adults and people with existing health problems, it can cause more severe illness or death

    In Pictures: Signs of Hope and Gratitude in the Time of Coronavirus

    While most of the world has been advised to shelter-at-home, quarantine or self-isolate to help stop the spread of COVID-19, health care and front-line workers are out there every day risking their safety for us. Around the globe, people are showing their gratitude for those who are putting their lives on the line to help fight this pandemic. In New York City, each night at 7 o'clock, the streets erupt in applause and the banging of pots and pans from people's windows in a show of gratitude and hope.
    In addition to nightly rounds of applause, people are showing their support by boosting morale in other ways. Children are making signs to hang in the windows of their homes, messages of thanks are being placed on the top floors of buildings that overlook hospitals and even a barn in upstate New York reads "Hope"—giving those who pass it something to hopefully bring a smile to their faces in some of the darkest times.
    Want to see more hope in the time of COVID-19? Newsweek's "Heroes of the Pandemic" series features everyday heroes showing service, sacrifice or kindness in the time of COVID-19.
    Donald John Trump US capping how much banks can lend as part of coronavirus emergency program Trump on 'Noble' Prize tweets: 'Does sarcasm ever work?' Pompeo plans to force extension of arms embargo against Iran: NYT MORE on Monday ripped the media's coverage of his administration's handling of the coronavirus pandemic, returning to a familiar theme as the White House canceled its coronavirus briefing — another signal is it changing its strategy on messaging. 
    “There has never been, in the history of our Country, a more vicious or hostile Lamestream Media than there is right now, even in the midst of a National Emergency, the Invisible Enemy!” Trump tweeted Monday morning. 
    Trump's attacks on the media are old news at this point, but the new tweet came amid changing circumstances at the White House. 
    Trump was ridiculed throughout the weekend over his Thursday remarks at the coronavirus briefing, where he talked about the possibility of using ultra-violet light or injecting disinfectants as possible treatments or cures for the coronavirus.
    Pmkishan
    Vegetables during Corona

    Those comments have come under enormous attention and appeared to lead to a significant change in how the White House will hold coronavirus briefings going forward.
    Friday's briefing lasted just more than 20 minutes, and the White House did not hold briefings on Saturday or Sunday — something that had been fairly routine.
    A briefing was scheduled for Monday, but was abruptly canceled.
    Trump tweeted criticism of the media throughout the weekend, suggesting his annoyance with coverage. 
    He fired off or shared well over a dozen tweets lacing into the media, a trend that continued into Monday morning.
    The outburst came in the wake of a New York Times story that reported on the president’s daily habits during the pandemic. The Times reported Trump wakes up early and consumes cable television, does not devote much preparation to the daily briefings and finishes his day by consuming press coverage of his performance.
    The White House did not refute anything in The Times’ story, but Trump fixated on the report over the weekend.
    “The people that know me and know the history of our Country say that I am  the hardest working President in history. I don’t know about that, but I am a hard worker and have probably gotten more done in the first 3 1/2 years than any President in history,” Trump tweeted Sunday. “The Fake News hates it!”
    The White House went to great lengths to defend the president, offering quotes and data to The New York Post for a story Sunday meant to counter the Times’ reporting. Chief of Staff Mark Meadows
    Mark Randall MeadowsMeadows puts his fingerprints on Trump White House White House, Congress reach deal to replenish small-business loan program The Hill's 12:30 Report: Washington nears coronavirus relief deal MORE, who has seldom appeared in the media since taking the job, told the Post the president was working so hard that his main concern was making sure Trump had time to eat lunch.
    Trump blamed the press for its scrutiny of his Thursday comments, claiming that they misrepresented that he directed the question to Dr. Deborah Birx, who is coordinating the federal government’s response to the virus. His pronouncements cut against mounting criticism over the remarks, with medical experts and manufacturers warning Americans against ingesting disinfectant. 
    Trump singled out a number of major publications throughout the last few days. He decried The Washington Post as “slime balls” for analyzing how much time he spends praising his administration in the briefings.
    He chastised The Wall Street Journal editorial board, claiming it inaccurately reported that he changed his position on Georgia governor’s plan to reopen certain businesses.
    Trump also claimed that Fox News, a channel that he and his aides often frequent, was being “fed Democrat talking points” and trying to be “politically correct” with its critical coverage. 

    Covid 19 corona fight in India


    आप सभी से विनम्र निवेदन है कि

    2  सभी से निवेदन है मास्क के लिए रुमाल या कपड़े के मास्क का उपयोग करे
    3 सेनेटाईज़र के लिए साबुन से हाथ धोए
    4 बाज़ार में सामान ख़रीदने के वक़्त 1 मीटर की दूरी बनाये
    5  बाज़ार में यदि ज़रूरत है तभी आयें
    6  किसी भी ख़बर का सम्पूर्ण जानकारी के उपरान्त लिखे
    7  किसी  भी जगह एकत्रित न हो अगर खाँसते छींकते वक़्त रुमाल तौलिया या फिर अपनी कोहनी का उपयोग करे
    8 एक डायरी में दैनिक जीवन की दिनचर्या लिखे कि में आज किस किस व्यक्ति से मिला
    9 अगर आपको सर्दी खाँसी ज़ुकाम साँस लेने में तकलीफ़ हो तो तुरन्त चिकित्सक से सम्पर्क करे
    10  गर्म पानी का सेवन करे एवं भीड़ भाड़ से बचे
    11 स्वास्थ्य रहे ये छोटी छोटी युक्ति से हम कोरोना को हरा कर अपने आप को घर वालों को सुरक्षित रख सकते है
    *Thanks for this information...*

    *बीमारी पहचानिये*

    (1) ◇  सूखी खाँसी + छींक  =  *वायु-प्रदूषण*

    (2) ○  खाँसी  + बलगम + छींक + बहती नाक  = *साधारण ज़ुकाम*

    (3) ●  खाँसी  + बलगम + छींक  + बहती नाक  + शरीर दर्द  + कमजोरी  +  हलका बुखार  = *फ्लयू*

     (4) ■  सूखी खाँसी  + छींक  +  शरीर दर्द +  कमजोरी  +  तेज़ बुखार  + साँस लेने में तकलीफ  =  *कोरोनावायरस* हो सकता है,,,,,,, तुरंत डॉक्टर की सलाह ले
                   
                    पैथोलॉजी विभाग
                       AIIMS, दिल्ली

    All the Collectors and officers of the District administration are working very hard
    I must compliment each of you and request you to look into following issues
    1- Status of survey of destitutes to be conducted by the Collectors.
    2- Check availability of wheat in districts.
    3- Has supply chain of essential items being ensured.
    4- Has mid day meal wheat being utilized for distribution.
    5- Are pregnant women getting access to health facilities and transport.
    6- Status of issues of sanctions under MLALAD for Covid Relief
    7- Status of availability of Mask and sanitizers for public.
    8- Check Status of payements to street vendors of 1000 Rs grant
    9- Functioning of upbhokta bhandar for mobile delivery of services
    10- Ensure factory owner can go to their factory to make payment to the labour.
    11- Are Palanhar payment being ensured
    12- Ensure adequate availability of fodder.
    13- Movement of goods do not requires pass/permission.

    Act to implementation corona fight against corona
    Following are the IPC Sections that an individual can be booked under, who  do not comply with the law / regulatory orders related to curb COVID-19 (nCOV19)

    *1. Sec 188 IPC:* Violation of order promulgated by the Government.
    Cognizable, Bailable.

    *2. Sec.269 IPC*
    Negligently doing any act known to be likely to spread infection of any disease dangerous to life.
    Imprisonment for 6 months or fine, or both.
    Cognizable, Bailable.

    *3. Sec 270 IPC*
    Malignantly doing any act known to be likely to spread infection of any disease dangerous to life.
    Imprisonment for 2 years, or fine, or both.
    Cognizable, Bailable.

    *4. Sec.271 IPC*
    Knowingly disobeying any quarantine rule.
    Imprisonment for 6 months, or fine, or both.
    Non-cognizable.


    "सेनेटाइजर"की विधि
    तो विधि इस प्रकार है.....
    1 लीटर स्प्रिट (कीमत 110 रुपए)
    200 ml ग्लिसरीन (60 रुपए)
    एक ढक्कन डिटोल का....
    महक चाहिए तो आपका पसंदीदा कोई भी इत्र चल जाएगा....
    पहले  स्प्रिट व ग्लिसरीन को मिलाइये....
    फिर डिटोल मिला दीजिए...
    फिर यदि महक चाहिए तो इत्र मिला दीजिए
    आपका सेनिटाइजर तैयार हो जाएगा...
    मात्र 200 रुपए के आस-पास आपका 1200 ml सेनिटाइजर तैयार हो जाएगा....
    जबकि बाजार में 100 ml का  सेनिटाइजर 100 से 150 रुपए तक मे बिक रहा है.....

    ✔️हम लोग  "फिटकरी"से सेनेटाइजर बना सकते है...
    1 लीटर पानी मे 100ग्राम "फिटकरी" डाल 1 ढक्कन "डिटोल", कपूर भी मिला दे
    गाड़ा करने के लिए "ग्लिसरीन"या "एलुविरा" मिलाकर भी "सेनिटाइजर"बना सकते है.....
    घर पर तैयार कर कालाबाजारी करने वालो को जवाब दीजिए....


    हमारे दैनिक जीवन से जुड़ी कोरोना वायरस से कुछ महत्वपूर्ण सावधानियां:

    1. दूध की थैली धो लें जिस क्षण हम इसे लेते हैं और जब आप इसको काम मे लेते हैं तो अपने हाथ धोवें।

    2. समाचार पत्रों को रद्द करने पर विचार करें।

    3. कोरियर के लिए एक अलग ट्रे रखें। कूरियर वाला व्यक्ति लिफाफे / pkg को ट्रे में रख सकता है और कूरियर को कम से कम 24 घंटों के लिए अछूता छोड़ देवें, हो सकता है उस पर वायरस हो।

    4. नौकरानियों या किसी अन्य को निर्देश दें कि वे मुख्य दरवाजे को न छुएं। घर में प्रवेश करने पर, उसे अन्य चीजों को छूने से पहले तुरंत अच्छी तरह से हाथ धोना पड़ता है। उसके बाद, एक सफाई तरल पदार्थ के साथ कॉलिंग-बेल स्विच पोंछें :)

    3. जहां तक ​​संभव हो स्वाइगी, अमेजन आदि से बचें।

    4. एक बार घर लाने के बाद सभी फलों और सब्जियों को धो लें।

    5. रिमोट, फोन और कीबोर्ड हमारे घर में सबसे अधिक दूषित तत्व हैं। सफाई तरल पदार्थ का उपयोग करके उन्हें दिन में कम से कम एक बार साफ करें।

    6. घर या ऑफिस में अक्सर हाथ धोएं। एक बार हर घंटे कम से कम। जेब मे sanitiser रखें।

    7. जहां तक ​​संभव हो सार्वजनिक परिवहन से बचें। यहां तक ​​कि ओला और उबेर का उपयोग तब किया जा सकता है जब बिल्कुल ही अपरिहार्य हो।

    8. जिम, स्विमिंग पूल और अन्य व्यायाम क्षेत्रों से बचें, जहां सतह संपर्क या वायु-जनित संदूषण अपरिहार्य है।

    9. ट्यूशन, डांस / म्यूजिक क्लास आदि को रद्द करें।

    10. जब आप ऑफिस से घर लौटते हैं, तो शॉपिंग आदि से अपने कपड़े उतार दीजिये हैं और हाथ-पैर अच्छी तरह धोएं।

    11. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि चेहरे पर कहीं भी हाथ न लगाएं। बच्चों और माता-पिता को सूचित करें।

    12. नियमित चलने वाले व्यायाम के लिए वरिष्ठ नागरिकों को जाने से रोकने के लिए कहें।
    13 ब्यूटी पार्लर, हेयर कट सैलून, होटल, रेस्टॉरेंट, मॉल आदि में जाने से बचें।
    14 आपात स्तिथि के लिए घर मे पर्याप्त मात्रा में राशन सामग्री रखे।
    15 शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने वाले सभी खाद्य पदार्थो का सेवन करते रहे। गर्म पानी का अधिक सेवन करे, गले को गीला रखें।।
    16 सभी लोग नागरिक कर्तव्यों का निर्वहन करें।।

    आओ हम सभी सतर्क रहें क्योंकि हम जल्द ही चरण 3 में प्रवेश करेंगे जो कम्युनिटी में संक्रमण का स्टेज है।

    सतर्कता ही बचाव है, जनहित में सभी को शेयर करें, और
    कृपया अपने परिवार और बच्चों के साथ सुरक्षित रहें ...

    जानिए *आरोग्य सेतु* एप्प क्या हैं...
    इसे install करना क्यों आवश्यक हैं...

    आपमें से बहुतों ने इनस्टॉल किया...
    पर आपको लगा कि बकवास हैं...
    इसे आपने uninstall भी कर दिया होगा...

    मैंने भी दो तीन बार install किया... फिर हटा दिया...
    पर मोदी जी ने फिर से बोला तो सोचना पड़ा...
    ये जरूर कोई बहुत बड़ी चीज हैं...

    आप भी फिर से आरोग्य सेतु एप को install कीजिए...
    मोदी जी ने चार बार आपसे निवेदन किया है...

    अब जानिए...

    यह एप्प आपसे कुछ पूछता है जैसे कि क्या आपको खांसी हैं...
    बुखार हैं...
    सांस लेने में परेशानी हैं...

    निश्चित है आप लिखेंगे...
    नहीं हैं...

    उसके बाद आप ग्रीन जोन में दिखते होंगे...
    आपको लगता होगा...
    इस एप्प में कुछ हैं ही नहीं...
    पूरा बकवास हैं...

    यह एप्प ब्लू टूथ और लोकेशन को ऑन रखने को कहता हैं...
    आप always on रखिये...

    जब भी आप किसी भीड़ भाड़ वाली जगह पर जाते हैं...
    यह एप्प ब्लू टूथ से आस पास के मोबाइल से संदेश लेता देता रहता हैं...

    जब आप किसी के पास खड़े हैं तो आप भी ग्रीन जोन के हैं...
    पास खड़ा व्यक्ति भी ग्रीन जोन वाला नार्मल व्यक्ति ही हैं...
    पर अगर वह व्यक्ति आज से 10 दिनों बाद किसी कारण से कोरोना पॉजिटिव हो जाएगा...
    तो यह एप्प आपको तुरंत alert कर देगा...
    और आपका ग्रीन कलर बदल कर ऑरेंज या पीला हो जाएगा।

    यह कहेगा...
    आप दूध लेने आज से 10 दिन पहले डेयरी पर गए थे...
    वह व्यक्ति जो नीले शर्ट वाला था...
    वह अब कोरोना पॉजिटिव हैं...
    यानी 10 दिन पहले उसे छिपा हुआ संक्रमण था जो अब साफ-साफ दिखने लगा हैं...

    अब आप तुरंत अपनी जांच कराइए...
    साथ ही यह एप्प उन सभी व्यक्तियों को सूचना दे देगा...
    आप सभी लोग उस आदमी के चलते danger zone में आ गए हैं...
    तुरंत जांच कराइये।

    सबकी लोकेशन ऑन रहने से उन सभी की मूवमेंट भी पता चलेगी...
    और कोरोना से लड़ना आसान होगा...

    आप इस पोस्ट को व्हाट्सएप्प पर भेजिए...
    लोगों को समझाइए...
    जिस दिन करोड़ों लोग इसे install कर लेंगे...
    यह आपके किसी भी ऑरेंज जोन के व्यक्ति के पास जाते ही रिंग करने लगेगा...
    यह आपको हॉट स्पॉट की सूचना अलार्म से दे देगा...
    ताकि आप रास्ता बदल लें...

    **समझे ओर समझाये.......हमारी सबसे बड़ी जिम्मेदारी है....
    **
    राजस्थान के भीलवाड़ा में
    केरल के कुछ क्षेत्रों में कोरोना तीसरे स्टेज में पहुंच चुका है।



    ये स्टेज क्या होती हैं?

    पहली स्टेज

    विदेश से नवांकुर आया। एयरपोर्ट पर उसको बुखार नहीं था। उसको घर जाने दिया गया। पर उससे एयरपोर्ट पर एक शपथ पत्र भरवाया गया कि वह 14 दिन तक अपने घर में कैद रहेगा। और बुखार आदि आने पर इस नम्बर पर सम्पर्क करेगा।
    घर जाकर उसने शपथ पत्र की शर्तों का पालन किया।
    वह घर में कैद रहा।
    यहां तक कि उसने घर के सदस्यों से भी दूरी बनाए रखी।

    नवांकुर की मम्मी ने कहा कि अरे तुझे कुछ नहीं हुआ। अलग थलग मत रह। इतने दिन बाद घर का खाना मिलेगा तुझे, आजा किचिन में... मैं गरम गरम् परोस दूं।

    नवांकुर ने मना कर दिया।

    अगली सुबह मम्मी ने फिर वही बात कही। इस बार नवांकुर को गुस्सा आ गया। उसने मम्मी को चिल्ला दिया। मम्मी की आंख में आंसू झलक आये। मम्मी बुरा मान गयीं।

    नवांकुर ने सबसे अलग थलग रहना चालू रखा।

    6-7वें दिन नवांकुर को बुखार सर्दी खांसी जैसे लक्षण आने लगे। नवांकुर ने हेल्पलाइन पर फोन लगाया। कोरोना टेस्ट किया गया। वह पॉजिटिव निकला।
    उसके घर वालों का भी टेस्ट किया गया। वह सभी नेगेटिव निकले।
    पड़ोस की 1 किमी की परिधि में सबसे पूछताछ की गई। ऐसे सब लोगों का टेस्ट भी किया गया। सबने कहा कि नवांकुर को किसी ने घर से बाहर निकलते नही देखा।
    चूंकि उसने अपने आप को अच्छे से आइसोलेट किया था इसीलिए उसने किसी और को कोरोना नहीं फैलाया।
    नवांकुर जवान था। कोरोना के लक्षण बहुत मामूली थे। बस बुखार सर्दी खांसी बदन दर्द आदि हुआ। 7 दिन के ट्रीटमेंट के बाद वह बिल्कुल ठीक होकर अस्पताल से छुट्टी पाकर घर आ गया।

    जो मम्मी कल बुरा मान गईं थीं, वो आज शुक्र मना रहीं हैं कि घर भर को कोरोना नहीं हुआ।


    यह पहली स्टेज जहां सिर्फ विदेश से आये आदमी में कोरोना है। उसने किसी दूसरे को यह नहीं दिया।


    स्टेज 2-  राजू में कोरोना पॉजिटिव निकला।
    उससे उसकी पिछले दिनों की सारी जानकारी पूछी गई। उस जानकारी से पता चला कि वह विदेश नहीं गया था। पर वह एक ऐसे व्यक्ति के सम्पर्क में आया है जो हाल ही में विदेश होकर आया है। वह परसों गहने खरीदने के लिए एक ज्वेलर्स पर गया था। वहां के सेठजी हाल ही में विदेश घूमकर लौटे थे।


    सेठजी विदेश से घूमकर आये थे।उनको एयरपोर्ट पर बुखार नहीं था। इसी कारण उनको घर जाने दिया गया। पर उनसे शपथ पत्र भरवा लिया गया, कि वह अगले 14 दिन एकदम अकेले रहेंगे और घर से बाहर नहीं निकलेंगे। घर वालों से भी दूर रहेंगे।
    विदेश से आये इस गंवार सेठ  ने एयरपोर्ट पर भरे गए उस शपथ पत्र की धज्जियां उड़ाईं।
    घर में वह सबसे मिला।
    शाम को अपनी पसंदीदा सब्जी खाई।
    और अगले दिन अपनी ज्वेलेरी दुकान पर जा बैठा। (पागल हो क्या! सीजन का टेम है, लाखों की बिक्री है, ज्वेलर साब अपनी दुकान बंद थोड़े न करेंगे)

    6वें दिन ज्वेलर को बुखार आया। उसके घर वालों को भी बुखार आया। घर वालों में बूढ़ी मां भी थी।
    सबकी जांच हुई। जांच में सब पॉजिटिव निकले।

    यानि विदेश से आया आदमी खुद पॉजिटिव।
    फिर उसने घर वालों को भी पॉजिटिव कर दिया।

    इसके अलावा वह दुकान में 450 लोगों के सम्पर्क में आया। जैसे नौकर चाकर, ग्राहक आदि।
    उनमें से एक ग्राहक राजू था।


    सब 450 लोगों का चेकअप हो रहा है। अगर उनमें किसी में पॉजिटिव आया तो भी यह सेकंड स्टेज है।

    डर यह है कि इन 450 में से हर आदमी न जाने कहाँ कहाँ गया होगा।


    कुल मिलाकर स्टेज 2 यानी कि जिस आदमी में कोरोना पोजिटिव आया है, वह विदेश नहीं गया था। पर वह एक ऐसे व्यक्ति के सम्पर्क में आया है जो हाल ही में विदेश होकर आया है।
    *******************************

    स्टेज 3

    रामसिंग को सर्दी खांसी बुखार की वजह से अस्पताल में भर्ती किया, वहां उसका कोरोना पॉजिटिव आया।
    पर रामसिंग न तो कभी विदेश गया था।
    न ही वह किसी ऐसे व्यक्ति के सम्पर्क में आया है जो हाल ही में विदेश होकर आया है।

    यानि हमें अब वह स्रोत नहीं पता कि रामसिंग को कोरोना आखिर लगा कहाँ से??

    स्टेज 1 में आदमी खुद विदेश से आया था।

    स्टेज 2 में पता था कि स्रोत सेठजी हैं। हमने सेठजी और उनके सम्पर्क में आये हर आदमी का टेस्ट किया और उनको 14 दिन के लिए अलग थलग कर दिया।


    स्टेज 3 में आपको स्रोत ही नहीं पता।

     स्रोत नहीं पता तो हम स्रोत को पकड़ नहीं सकते। उसको अलग थलग नहीं कर सकते।
    वह स्रोत न जाने कहाँ होगा और अनजाने में ही कितने सारे लोगों को इन्फेक्ट कर देगा।

    *स्टेज 3 बनेगी कैसे?*

    सेठजी जिन 450 लोगों के सम्पर्क में आये। जैसे ही सेठजी के पॉजिटिव होने की खबर फैली, तो उनके सभी ग्राहक,नौकर नौकरानी, घर के पड़ोसी, दुकान के पड़ोसी, दूध वाला, बर्तन वाली, चाय वाला....सब अस्पताल को दौड़े।
    सब लोग कुल मिलाकर 440 थे।
    10 लोग अभी भी नहीं मिले।
    पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की टीम उनको ढूंढ रही है।
    उन 10 में से अगर कोई किसी मंदिर आदि में घुस गया तब तो यह वायरस खूब फैलेगा।
    यही स्टेज 3 है जहां आपको स्रोत नहीं पता।


    *स्टेज 3 का उपाय*
    14 दिन का lockdown
    कर्फ्यू लगा दो।
    शहर को 14 दिन एकदम तालाबंदी कर दो।
    किसी को बाहर न निकलने दो।

    इस तालाबंदी से क्या होगा??

    हर आदमी घर में बंद है।
    जो आदमी किसी संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में नहीं आया है तो वह सुरक्षित है।
    जो अज्ञात स्रोत है, वह भी अपने घर में बंद है। जब वह बीमार पड़ेगा, तो वह अस्पताल में पहुंचेगा। और हमें पता चल जाएगा कि अज्ञात स्रोत यही है।

    हो सकता है कि इस अज्ञात श्रोत ने अपने घर के 4 लोग और संक्रमित कर दिए हैं, पर बाकी का पूरा शहर बच गया।

    अगर LOCKDOWN न होता। तो वह स्रोत पकड़ में नहीं आता। और वह ऐसे हजारों लोगों में कोरोना फैला देता। फिर यह हजार अज्ञात लोग लाखों में इसको फैला देते। इसीलिए lockdown से पूरा शहर बच गया और अज्ञात स्रोत पकड़ में आ गया।

    *क्या करें कि स्टेज 2, स्टेज 3 में न बदले।*
    Early lockdown यानी स्टेज 3 आने से पहले ही तालाबन्दी कर दो।
    यह lockdown 14 दिन से कम का होगा।

    उदाहरण के लिए
    सेठजी एयरपोर्ट से निकले
    उनने धज्जियां उड़ाईं।
    घर भर को कोरोना दे दिया।
    सुबह उठकर दुकान खोलने गए।
    (गजब आदमी हो यार! सीजन का टेम है, लाखों की बिक्री है, अपनी दुकान बंद कैसें कर लें)

    पर चूंकि तालाबंदी है।
    तो पुलिस वाले सेठजी की तरफ डंडा लेकर दौड़े।
    डंडा देख सेठजी शटर लटकाकर भागे।

    अब चूंकि मार्किट बन्द है।
    तो 450 ग्राहक भी नहीं आये।
    सभी बच गए।
    राजू भी बच गया।
    बस सेठजी के परिवार को कोरोना हुआ।
    6वें 7वें दिन तक कोरोना के लक्षण आ जाते हैं। विदेश से लौटे लोगों में लक्षण आ जाये तो उनको अस्पताल पहुंचा दिया जायेगा। और नहीं आये तो इसका मतलब वो कोरोना नेगेटिव हैं।

    [14/04, 11:21] Garg: "सात" बातों में देश का "साथ" मांगा पीएम मोदी ने।


    अपने घर के बुजुर्गों का रखे अतिरिक्त ध्यान

    लॉकडाउन सोशल डिस्टेंस का पूरा ख्याल रखें।

    घर मे रखे मास्क का करे ज्यादा उपयोग

    अपनी इम्युनिटी बढ़ाये आयुष मंत्रालय द्वारा जानकारी का इस्तेमाल करे।

    आरोग्य एप डाउनलोड करे।

    जितना हो सके गरीब परिवार की जरूरत पूरी करे।


    अपने व्यवसाय,उधोग से जुड़े छोटे कर्मचारियों के प्रति संवेदना रखें


    देश के सभी कोरोना योद्धाओं का सम्मान करें।
    [14/04, 11:44] Garg: हम धैर्य बनाकर रखेंगे,
    नियमों का पालन करेंगे तो कोरोना जैसी महामारी को भी परास्त कर पाएंगे।

    इसी विश्वास के साथ अंत में,

    मैं आज 7 बातों में आपका साथ मांग रहा हूं


    *पहली बात*-
    अपने घर के बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें
    - विशेषकर ऐसे व्यक्ति जिन्हें पुरानी बीमारी हो,
    उनकी हमें Extra Care करनी है, उन्हें कोरोना से बहुत बचाकर रखना है.

    *दूसरी बात*-
    लॉकडाउन और Social Distancing की लक्ष्मण रेखा का पूरी तरह पालन करें ,
    घर में बने फेसकवर या मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करें.

    *तीसरी बात*-
    अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए, आयुष मंत्रालय द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें,
    गर्म पानी,
    काढ़ा,
    इनका निरंतर सेवन करें.

    *चौथी बात* -
    कोरोना संक्रमण का फैलाव रोकने में मदद करने के लिए आरोग्य सेतु मोबाइल App जरूर डाउनलोड करें।
    दूसरों को भी इस App को डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करें.

    *पांचवी बात*-
    जितना हो सके उतने गरीब परिवार की देखरेख करें,
    उनके भोजन की आवश्यकता पूरी करें.

    *छठी बात*-
    आप अपने व्यवसाय, अपने उद्योग में अपने साथ काम करे लोगों के प्रति संवेदना रखें,
    किसी को नौकरी से न निकालें.

    *सातवीं बात*-
    देश के कोरोना योद्धाओं,
    हमारे डॉक्टर- नर्सेस,
    सफाई कर्मी-पुलिसकर्मी का पूरा सम्मान करें.

    पूरी निष्ठा के साथ 3 मई तक लॉकडाउन के नियमों का पालन करें,
    जहां हैं,
    वहां रहें,
    सुरक्षित रहें।

    वयं राष्ट्रे जागृयाम”,
    हम सभी राष्ट्र को जीवंत और जागृत बनाए रखेंगे.

    *"फर्स्ट इंडिया न्यूज़" की तरफ से अपील*

    मित्रों, आज से *कोरोना* वायरस *तीसरी स्टेज* में प्रवेश कर रहा है। यहां से *8 दिन* सब से ज्यादा महत्वपूर्ण होंगे। इन दिनों में हम सबको विशेष ख्याल रखना होगा।

    हम सब को सोशल डिस्टेन्सिंग के साथ अब *फिजिकल डिस्टेन्सिंग* की पालना करना होगा। एक दूसरे से उचित दूरी बनाए रखनी है। मास्क और सेनेटाइजर का मुकम्मल इस्तेमाल करना है।

    किसी भी हाल में खुद को संक्रमण में नहीं फंसने देना है। बिल्कुल भी लापरवाही नहीं करनी है। अगर आगामी 4 दिन हमने खुद को सुरक्षित रख लिया तो आधी जंग जीत लेंगे।

    हमको कोरोना को हराना है। ये जंग जीतना ही है। अपने लिए और अपने घरवालों के लिए। खुद को सुरक्षित रखना है। कोरोना से बचना है।

    *सबसे कारगर उपाय*
    1. एक दूसरे से कम से कम 4 से 6 फ़ीट की दूरी बनाएं।

    2. मास्क और सेनेटाइजर का यूज़ करें।

    3. बार बार हांथो को धोएं।

    4. दिन भर में कम से कम 5 बार गर्म पानी पिएं।

    5. घर पर सुबह शाम नामक वाले पानी से गरारे करें।

    6. शरीर को गर्म रखें।

    7. फ्रिज के पानी और ठंडी चीज़ों का सेवन भूल कर भी न करें।

    8. खुद को सर्दी खांसी से बचाएं।

    9. घर पर अदरख, काली मिर्च और लौंग का काढ़ा बनाएं, इसमे एक चम्मच शहद मिला कर चाय की तरह गरमा गरम ही पिएं।

    10. घर पर बच्चों और बुजुर्गों का विशेष ख्याल रखें।

    सबसे जरूरी है कि *हमें घबराना नहीं है। मनोबल को बढ़ाए रखना है। कही सुनी बातों पर खुद का मूल्यांकन नहीं करना है।*