PM kisan devoted fully for farmer welfare it helps farmers increase their income by agriculture PM Kisan Samman Nidhi Yojana List 2019 hindi story

Post Page Advertisement [Top]

Pmkishan
knowledge

Jan Aadhaar card yojna-जन आधार कार्ड योजना


Jan Aadhaar Yojna replace Bhamashah yojna Rajasthan

प्रदेश में 1 अप्रेल से लागू होगा नया जन आधार कार्ड, 65 तरह की योजनाओं का मिलेगा लाभ


जयपुर।
 मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Ashok Gehlot ) की बजट घोषाण ( Rajasthan Budget 2020-21 ) के अनुरूप प्रदेश में आगामी 1 अप्रेल से जन आधार कार्ड ( Jan Aadhar Card ) लागू हो जाएगा। इस कार्ड से 23 विभागों की 65 तरह की योजनाओं का लाभ आम आदमी को मिलेगा। आयोजना विभाग ने जन आधार कार्ड को लागू करने की तैयारियां युद्ध स्तर पर शुरू कर दी हैं। साथ ही जन आधार कार्ड संबधी समस्याओं के समाधान के लिए गठित जन आधार प्राधिकरण भी जल्द क्रियाशील होगा। आयोजना विभाग के अधिकारियों का कहना है कि ई-जन आधार कार्ड से सभी लाभ लिए जा सकते हैं।
25 लाख परिवारों तक पहुंचा नया जन आधार कार्ड
आयोजना विभाग के अधिकारियों के अनुसार भामाशाह योजना के तहत प्रदेश में पहले से चयनित 1.76 करोड़ परिवारों को नया प्लास्टिक जन आधार कार्ड भेजना शुरू कर दिया है। 24 फरवरी तक 25 लाख चयनित परिवारों को जन आधार कार्ड पहुंचाए जा चुके हैं। कार्ड को संबधित जिला कलक्टर के माध्यम से ब्लॉक स्तर पर भेजा जा रहा है वहां से ई-मित्र के जरिए इनका वितरण हो रहा है।
प्लास्टिक कार्ड नहीं है तो चिंता नहीं
भामाशाह योजना में चयनित सभी परिवारों को प्लास्टिक कार्ड नहीं पहुंचे हैं। लेकिन 27 लाख चयनित परिवार जन आधार पोर्टल से अपना ई-कार्ड ले चुके हैं, वे विभागों की प्रत्यक्ष लाभ की सभी 65 योजनाओं का लाभ ले रहे हैं। अधिकारियों का कहना है कि ई-कार्ड व्यक्ति आसानी से अपने घर बैठे भी प्राप्त कर सकता है।
60 हजार लोगों ने किया जन आधार पोर्टल पर पंजीयन
प्रदेश में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य सरकार की पहली वर्षगांठ पर जन आधार कार्ड लांच किया था। दो माह में ही चयनित परिवारों के अलावा 60 हजार लोग जन आधार पोर्टल पर अपना पंजीयन करा चुके हैं और 4 लाख लोग जन आधार पोर्टल के जरिए 11 अंकों का व्यक्तिगत पहचान नंबर और 10 अंकों का परिवार पहचान नंबर ले चुके हैं।


परिवार के हर सदस्य का होगा अलग जन आधार नंबर, जानि
कैसा होगा आपका ‘जन आधार कार्ड‘
एक अप्रेल से भामाशाह कार्ड ( Bhamashah Card ) जनाधार कार्ड ( Jan Aadhar Card ) से बदल जाएगा, जिसकी आधिकारिक लॉन्चिंग 18 दिसंबर को होगी। इसमें परिवार के यूनीक नंबर के अलावा हर सदस्य का अलग आइडी नंबर होगा...
 एक अप्रेल से भामाशाह कार्ड ( Bhamashah Card ) जनाधार कार्ड ( Jan Aadhar Card ) से बदल जाएगा, जिसकी आधिकारिक लॉन्चिंग 18 दिसंबर को होगी। इसमें परिवार के यूनीक नंबर के अलावा हर सदस्य का अलग आइडी नंबर होगा। भामाशाह में पूरे परिवार का एक ही नंबर होता था। फर्क यह होगा कि पहले 7 अंक और शब्दों के मिलान से नंबर बना था, अब यह सिर्फ अंक आधारित होगा।

बेटी की शादी होने के बाद भी उसकी पहचान उसी नंबर से
हर सदस्य का 11 अंकों का अलग नंबर जारी किया जाएगा। उस सदस्य के लिए जीवनभर यह यूनीक आइडी रहेगी। यानी बेटी की शादी होने के बाद भी उसकी पहचान उसी नंबर से रहेगी। यह नंबर दूसरे परिवार के कार्ड के साथ जुड़ जाएगा। जनाधार कार्ड की 18 दिसंबर को लॉन्चिंग के बाद नया नंबर मिलेगा। यह ई-टीडीएस भरने और स्वास्थ्य बीमा का लाभ लेने के लिए रहेगा।

मोबाइल ऐप भी होगा लॉन्च
जनाधार का मोबाइल ऐप भी लॉन्च होगा। इससे भी नया नंबर पता लगाया जा सकेगा। जनाधार कार्ड में अप्रैल तक 75 योजनाएं जोड़ी जाएंगी। पंचायतों में राजीव केन्द्रों पर ईमित्र और जनाधार योजना की सेवाएं चलाई जाएंगी।

आपको यों मिलेगी सूचना
नंबर बदलने की सूचना एसएमएस से दी जाएगी। व्यक्ति को अपना ई-कार्ड डाउनलोड करना होगा। कार्ड की हार्डकॉपी वितरित करने के लिए वितरण योजना अलग से बनाई जा रही है। कार्ड में परिवार के दो जनों का आधार नंबर देना जरूरी होगा या भामाशाह में पहले से दिए हुए आधार नंबर मान्य होंगे। इसके बाद ये आधार नंबर प्रमाणित किए जाएंगे। केंद्र सरकार की किसी योजना के लिए आधार नंबर जरूरी होगा।

जन आधार कार्ड योजना के लाभ
- राशन कार्ड से मिलने वाली सुविधाओं का लाभ जन आधार कार्ड से मिल सकेंगा ।
-पेंशनकर्मियों को हर साल जीवित प्रमाण पत्र बनवाना पड़ता था अब नहीं योजना के तहत यह प्रमाण पत्र हर साल नहीं बनवाना पड़ेगा।
-परिवार के प्रत्येक सदस्यों का नाम आटो एड हो जाएगा । बार-बार नाम जुड़वाने की जरूरत नहीं होगी।
-जन आधार कार्ड एक परिवार की एक पहचान बनेगा यानि एक कार्ड, एक नम्बर, एक पहचान।
-ई-कॉमर्स और बीमा सुविधाओं का लाभ भी इसी कार्ड से मिले पाएगा।

जन आधार कार्ड की मुख्य बातें
- भामाशाह कार्ड की तरह यह कार्ड भी महिला के नाम से बनेगा ।
-अगर किसी परिवार में महिला नहीं है तो पुरूष के नाम से भी जन आधार कार्ड बनाया जा सकता है ।
-इस कार्ड में परिवार के सभी सदस्यों को जोड़ा जाएगा ।
-जन आधार कार्ड में आपको 10 अंक का पंजीयन नम्बर दिया जायेगा।
जिसका भामाशाह कार्ड पहले से बना हुआ है उसे जन आधार कार्ड बनवाने की जरूरत नहीं है। उस परिवार को मोबाइल नम्बर पर SMS मैसेज या फोन करके 10 अंक का पंजीयन नम्बर भेजा जायेगा।
-जिस परिवार का भामाशाह कार्ड नहीं बना हुआ है उसे ही नया कार्ड जन आधार कार्ड बनवाना होगा।
#जयपुर:सरकार की पहली वर्षगांठ पर लागू होगी सिलिकोसिस नीति

सिलिकोसिस पीड़ितों को 1500 रू प्रतिमाह मिलेगी पेंशन

पीड़ित को पुर्नवास के लिए 3 लाख रु.देगी राज्य सरकार

मृत्यु पर उत्तराधिकारी को दी जाएगी 2 लाख रूपए की राशि


बच्चों से बोले कलेक्टर-जितने घंटे पढ़ाई करें वह गुणवत्तापूर्ण होनी चाहिए


बच्चों से बोले कलेक्टर-जितने घंटे पढ़ाई करें वह गुणवत्तापूर्ण होनी चाहिएभास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर किसी भी परीक्षा की तैयारी के समय घंटे मायने नहीं रखते, जितने घंटे पढ़ाई करें वह मन...

किसी भी परीक्षा की तैयारी के समय घंटे मायने नहीं रखते, जितने घंटे पढ़ाई करें वह मन लगाकर अच्छी गुणवत्तापूर्ण होनी चाहिए। यह बात कलेक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने कही। उन्होंने विद्यार्थियाें से सोशल मीडिया व मोबाइल से उपयोगी सामग्री ही ग्रहण करने का आह्वान किया। कलेक्टर मंगलवार को कलेक्ट्रेट में स्पैंगल पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों से बातचीत कर रहे थे। ये बच्चे स्कूल मैगजीन का संपादन करते हैं तथा अपनी रुचि के आलेख इत्यादि प्रकाशित करते हैं। इसी संदर्भ में बच्चे अपने बहुत से प्रश्न लेकर कलेक्टर से मिले।

कलेक्टर नकाते ने बच्चों के एक-एक प्रश्न को ध्यानपूर्वक सुना तथा बहुत ही बारीकी से उत्तर देकर बच्चों की जिज्ञासा को शांत किया। बच्चों ने कलेक्टर से पूछा कि अाप इतने बड़े जिले को कैसे संभालते हो, योजनाएं आमजन तक कैसे पहुंचती हैं, जिले के क्या अनुभव रहे तथा जिले की अन्य समस्याओं से संबंधित प्रश्न पूछें। इस पर कलेक्टर नकाते ने विद्यार्थियों को भारतीय प्रशासनिक सेवा में चयन प्रक्रिया के बारे में बताया तथा कलेक्टर द्वारा जिले की कानून व्यवस्था पुलिस के सहयोग से बनाए रखने तथा सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की क्रियान्विति करवाने, आमजन की समस्याओं को सुनने तथा उसका समाधान करने अादि की जानकारी दी। उन्हाेंने आमजन के लिए सड़क निर्माण, बिजली, पेयजल, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, सार्वजनिक वितरण प्रणाली इत्यादि कार्यों की निरंतर माॅनिटरिंग के बारे में भी बताया। साथ ही कहा कि बहुत से प्रकरण राज्य सरकार स्तर के होते हैं, जिन्हें सरकार स्तर से हल करवाया जाता है। कलेक्टर ने बताया कि श्रीगंगानगर जिला कृषि प्रधान होने के कारण कृषि भूमि से संबंधित समस्याएं जैसे भूमि का बंटवारा इत्यादि के प्रकरण आते हैं। राजस्व अधिकारियों द्वारा बंटवारा नियमानुसार किया है या नहीं, की अपील में सुनवाई की जाकर नियमानुसार निर्णय किया जाता है। उन्होंने बताया कि लोकतांत्रिक प्रणाली में चुनाव एक महत्वपूर्ण कार्य है, जो ग्राम पंचायत से लेकर जिला प्रमुख, विधायक, एमपी के चुनाव निष्पक्षता के साथ शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न करवाना है।

पर्यावरण संबंधी प्रश्न पर कहा कि अधिक से अधिक पेड़ लगाएं व कचरा निर्धारित स्थान पर डालें

कलेक्टर ने बताया कि आंगनबाड़ी के बच्चों को पाैष्टिक आहार मिले, इसके लिए नवाचार किया गया है। जिन आंगनबाड़ी केंद्राें, विद्यालयों में चारदीवारी है, वहां पर न्यूट्री गार्डन विकसित किए जा रहे हैं, जिससे बच्चों को पोष्टिक आहार देने में मदद मिलेगी तथा बच्चों में आयरन इत्यादि की कमी को दूर किया जा सकेगा। उन्होंने बच्चों के पर्यावरण संबंधी प्रश्न के उत्तर में कहा कि नागरिकों को अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए तथा कचरे को निर्धारित स्थान पर ही डालना चाहिए तथा घरों में भी अलग-अलग रंग के कचरा पात्र होने चाहिए।
Friends if you like my post comments And share the post to another friend your sharing is my pleasure thanks for Reading

No comments:

Bottom Ad [Post Page]

| Designed by Colorlib